Hindi Vyakaran

Muhavare in Hindi | हिन्दी मुहावरे और अर्थ | Hindi Vyakaran

हम भाषा में अक्सर मुहावरे का प्रयोग करते है और इनका प्रयोग से वाक्य में चार चाँद लग जाते है। लेकिन यह भी आवश्यक है की वाक्य में सही मुहावरे का प्रयोग करे अन्यथा अर्थ का अनर्थ हो जाता है। इनके प्रयोग से हास्य, ईर्षा, क्रोध जैसे आदि भावों प्रगट किया जा सकते है। मुहावरा संक्षिप्त में होता है, परंतु अपने यह संक्षिप्त रूप में ही किसी बड़े विचार का भाव प्रगट करता है। हमने यह Muhavare in Hindi का संकलन आपको भाषण, निबंध एवं लेख लिखने में और प्रतियोगी परीक्षा में उपयोगी हो सके इसलिए लिया है।   

Muhavare in Hindi- मुहावरे और इनके अर्थ

1. बगुला भगत होना – कपट करना

2. गुदड़ी में लाल होना – गरीबी में भी गुणवान होना

3. बाल बांका न होना – कुछ न होना

4. बेड़ा पार लगाना – किसी को दु:ख से छुड़ाना

5. गूलर का फूल – दुर्लभ व्यक्ति और वस्तु

6. मन की मन में रहना – अरमान पूरा न होना

7. गेंहू के साथ घुन पीसना – दोषी के साथ निर्दोष पर भी संकट आना 

8. आकाश से बात करना – घमंड करना

9. अंग अंह मुस्काना – बहुत प्रसन्न होना

10. आसमान सिर पर उठाना – बहुत शोर करना

11. अगाड़ी पिछाड़ी बांधना – सब तरह के प्रबंध करना

12. आँख बंद करना – भूल जाना

13. आड़े हाथों लेना – खरी-खरी सुनाना

14. आँख से गिराना –सन्मान खोना

15. आँखों का काटा – अप्रिय व्यक्ति

16. आंच न आने देना – अहित न होने देना

17. अंगारे बरसाना – अंत्यधिक गर्मी पड़ना

18. अंग–अंग ढीला हो जाना – थक जाना 

19. अक्ल पर पत्थर पड़ना – बुद्धि नष्ट होना

20. आंखों में चरबी उतरना – अभिमान होना

21. आँखों पर पडदा – लाभ के कारण सच्चाई न दिखाना 

22. आँसू पीकर रह जाना – दु:ख सह लेना

23. मूँछों पर ताव देना – घमंड करना

24. चौदहवीं का चाँद – बहुत सुंदर

25. नौ दो ग्यारह होना – भाग जाना

26. अंधेरे का उजाला – इकलौता पुत्र 

27. अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारना – स्वयं अपनी हानी करना

28. अरमान निकालना – इच्छा पूरी करना

29. अंगारे उगलना – क्रोध में कठोर वचन कहना 

30. अंजर पंजर ढीला होना – अंग अंग शिथिल हो जाना

31. अंगूठा दिखाना – काम करने से साफ इनकार करना 

32. अपनी खिचड़ी अलग पकाना – सबसे पृथक कार्य करना

33. आसमान टूट पड़ना – मुसीबत आना

34. अरण्य रोदन – व्यर्थ प्रयास

35. ईमान बेचना – विश्वास उठा देना

36. उंगली पकड़ कर पँहुचा पकड़ना – तनिक सा सहारा पाकर सारे पर अधिकार करना   

37. एक और एक ग्यारह होना – मिलकर शक्ति बढ़ाना

Hindi Muhavare with meaning

38. अपनी बात पर रहना –  हठ करना

39. अपना उल्लू सीधा करना – मतलब निकालना 

40. अफवाह गर्म होना – प्रसिद्ध होना

41. आग बबूला हो उठाना – अधिक क्रोध करना

42. आंखों का तारा – बहुत प्यारा

43. उड़ती चिड़िया पहचानना – दूर की बात जान लेना

44. कंधे से कंधा मिलाना – सहयोग देना

45. एडी-चोटी का पसीना बहाना – बहुत परिश्रम करना

46. आह भार कर रह जाना – विवशता प्रकट करना

47. आकाश पाताल एक करना – पूरा प्रयत्न कारण

48. कब्र में पैर लटकाये बैठना – मरने के निकट होना

49. ऐंठ लेना – ठग लेना  

50. कलेजा ठंडा होना – शांति प्राप्त होना

Click here >> gk guiz in hindi

51. कलेजा मुंह को आना – जी धबराना

52. ऊँट किस करवट बैठता है – देखे क्या निर्णय होता है

53. उंगली पर नचाना – वश में करना

54. ऊँट के मुहँ मे जीरा – बड़े पेट को थोड़ा सामान

55. कागज काला करना – व्यर्थ कुछ लिखना

56. कफन सिर से बांधना – मरने के लिए तैयार होना  

57. कान खड़े करना – सचेत करना

58. कूप मण्डूक होना – अल्पज्ञ होना 

59. कच्चा चिठ्ठा खोलना – गुप्त भेद खोलना

60. एक अनार सौ बीमार – मार्ग अधिक पूर्ति कम

61. आपसे बाहर होना – वश में न रहना

62. एक नजर से देखना – सबके साथ सामान व्यवहार करना 

63. आसमान के तारे तोड़ना – कठिन कार्य कर लेना

64. आकाश-पाताल का अंतर – बहुत अधिक अंतर

65. कान खाना – जोर जोर से बाते करना

66. कुएं में भाँग पड़ना – सबकी अक्ल मारी जाना  

67. कान कतरना – चालाक होना

68. किस खेत की मुली – महत्वहिन

69. कलेजा छलनी होना – कड़वी बात से जी दुखाना

70. कलई खुलना – रहस्य प्रगट होना

71. औघट घाट चलाना – उचित मार्ग छोड़ अनुचित मार्ग अपनाना 

72. इर्द का चाँद होना – बहुत दिनों बाद दर्शन देना

73. उंगली उठाना – निंदा करना

74. घर में गंगा बहना – पास में ही मनचाही वस्तु मिलना

Hindi muhavare ka arth

75. खट्टा जी होना – अप्रसन्न होना

76. घास खोदना – व्यर्थ समय गँवाना

77. खाक छानना – भटकना

78. घी के दिये जालना – खुशी मनाना

79. खाक में मिलना – बरबद होना

80. घात में रहना – किसी का अनिष्ट करने के लिए मौका ढूँढना

81. खून की नदी बहाना – अधिक मारकाट करना

82. घोड़े बेचकर सोना – निश्चिन्त होना

83. खून खून जाना – भयभीत होना

84. कान पर जूं न रेगना – बार बार कहने का भी प्रयास न होना

85. खेत रहना – युद्ध में मारे जाना 

86. काम तमाम करना – मार डालना

87. खून क घुट पीकर रह जाना – क्रोध को रोक लेना

88. कानों कान खबर न होना – किसी को मालूम न होना

89. गिरगिट की तरह रंग बदलना – किसी बात पर स्थिर न रहना 

90. घर फूँक कर तमाशा देखना – अपना नुकसान कर आनंद मनाना

91. गड़े मुर्दे उखाड़ना – पुरानी बात दोहराना

91. घर की वस्तु मुर्गी बराबर – आसानी से प्राप्त वस्तु का विशेष आदर न होना

92. चाँद पर थूकना – व्यर्थ की निंदा करना

93. डोरी ढीली छोड़ना – नियन्तरण में ढील देना 

94. जंगल में मंगल होना – सुनसान स्थान पर चहल पहल होना

95. तूती बोलना – खूब प्रभाव होना 

96. जमाना देखना – बहुत कुछ अनुभव प्राप्त करना

97. दाँत काटी रोटी होना – घनिष्ट मित्रता

98. कलई खुलना – पोल खुलना 

99. काया पलट हो जाना – परिवर्तन होना

100. किनारा करना – अलगहोना

Click here >> Gk question in Hindi

101. कमर कसना – तैयारी करना

102. खिचड़ी पकाना – षडयन्त्र रचना

103. काला अक्षर भैस बराबर – बिलकुल अनपढ़

104. गाल बजाना – मालदार होना

105. आंखों में समाना – दिल में बस जाना  

106. गुड़ गोबर करना – काम बिगाड़ना

107. आंखों का पानी ढलना – निर्लज्ज बन जाना

108. गले का हार होना – अत्यंत प्रिय होना

109. पांचों ऊँगालिया घी में होना – सब और से लाभ होना

110. गले पड़ना – सिर पड़ना

Muhavare in Hindi language

111. पानी में आग लगाना – शांति भंगकर देना

112. गुड़िया का खेल समजना – सहज काम करना

113. गरदन पर छुरी चलाना – अत्याचार करना

114. घर में चूहे कूदना – अति दरिद्र होना

115. गागर में सागर – भरना – अधिक भावों को थोड़े शब्दों में कहना

116. घोंट कर पी जाना – रट लेना 

117. खून का प्यासा – मरने मारने पर उतारू 

118. जान से बाहर आना – नाराज होना

119. नाक चोटी काटकर हाथ में देना – दुर्दशा करना

120. गांठ का पूरा होना – मालदार होना

121. अक्षर से भेट न होना – अनपढ़ होना 

123. आँख मारना – इशारा करना

124. बड़े घर की हवा खाना – जेल जाना 

125. ठीकरा फोड़ना – दोष लगाना

126. घी के चिराग जालना – खुशी मनाना

127. तेली का बैल होना – हर समय काम में लगे रहना

128. पांव उखाड़ना – हारकर भाग जाना  

129. घड़ों पानी पड़ना – बहुत लज्जित होना

130. पगड़ी उछालना – बेइज्जती करना  

131. घर का शेर होना – केवल घर में ही बाल दिखाना

132. बेपेंद्री का लोटा – पक्ष बदलने वाला

134. घाव पर नमक छिड़कना – हदय दुखाना

135. कलेजा ठंडा होना – संतोष होना  

136. खाक छानना – बेकार फिरना

137. पीठ दिखाना – कायरता का आचरण करना

138. ढोल पीटना – प्रचार करना

139. पेट मेँ रखना – बात छिपाकर रखना

140. तलवे चाटना – खुशामद करना

141. गाजर मुली समजना – तुच्छ समजना

142. तेल की कचौड़ियों पर गवाही देना – सस्ते मेँ काम करना 

143. घाव हरा होना – भूले दु:ख की याद करना

144. टांग अड़ाना – दाखल देना

145. जूतियों में दालबाँटना – लड़ाई जगड़ा हो जाना 

146. चलती गाड़ी में रोड़ा उटकाना – बाधा उटकाना

147. घाट-घाट का पानी पीना – अनुभवी होना

148. तारे गिनना – रात को निद न आना

149. तीन तेहर होना – तितर बितर होना

150. चुना लगाना – धोखा देना

151. बात का घनी होना – बचन का पक्का होना  

152. बंदर भभकी – प्रभावहीन धमकी

Best muhavare in Hindi

153. दूध का दूध और पानी का पानी – उचित न्याय करना 

154. घर सिर पर उठाना – शोर करना

155. थाली का बैगन – सिद्धांतहिन व्यक्ति 

156. लँगोटी मेँ फाग खेलना – गरीबी में आनंद लूटना   

157. दाने-दाने को तरसना – खाना न मिलना

158. सिर ओखली में देना – जान बुजकर मुसीबत मोल लेना

159. पेट काटना – अपने ऊपर थोड़ा खर्च करना

160. तिनके का सहारा – थोड़ी सहायता

161. हथेली पर सरसों उगना – कम समय में अधिक कार्य करना 

162. रंग जमाना – घाक जमाना

163. रंग में भंग पड़ना – मजा किरकिरा होना

164. दाल में काला होना – संदेह होना

165. सींग काटकर बछड़ों में मिलना – बूढ़े होकर भी बच्चों जैसा काम करना

166. दो टूक बात करना – साफ कहना

167. दम निकलना – भयभीत होना

168. दबे पांव निकल जाना – चुपचाप चले जाना

169. हाथ पाँव मारना – प्रयास करना

170. नजर लग जाना – बुरी दृष्टि का प्रभार होना

171. हिन्दी की चिन्दी निकालना – बात की तह तक पँहुचना  

173. नमक खाना – किसी की दया खाना

174. मक्खन लगाना – चापलूसी करना

175. दंग रह जाना – आश्रय में होना

176. मुँह खून लगना – रिश्वत लेने की आदत पड़ जाना

177. दांत खट्टे करना – हराना

178. दो दिन का मेहमान होना – थोड़े दिन रहना

179. हवा से बाते करना – बहुत तेज दौड़ना

180. बिल्ली के गले में घंडी बांधना – अपने को संकट में डालना

181. नमक मिर्च लगाना – किसी बात का बढ़ा चढ़ा कर वर्णन करना

182. बाल की ख्याल निकलना – बहुत तर्क वितर्क करना  

183. नाच नचाना – हैरान करना

184. छाती पर मूँग दलना – बहुत परेशान करना

185. नीला-पीला होना – क्रोध प्रकट करना

186. चांदी का जूता देना – रिश्वत देना

187. पेट में दाढ़ी होना – चालक होना

188. छप्पड़ फाड़कर देना – बिना प्रयास के सम्पति मिलना

189. पानी उत्तर जाना – इज्जत जाना

190. चिकना घड़ा होना – कोई ब=प्रभाव न पड़ना

191. पोल खोलना – दोष प्रगट करना

 

Share Post
  • 2
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *